अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस

Posted on

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस

प्रति वर्ष 21 फरवरी को अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के रूप में यूनेस्को द्वारा मनाया जाता है।

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस की शुरुआत

यूनेस्को नें 17 नवंबर 1997 को प्रति वर्ष 21 फरवरी को अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाने की घोषणा की थी। तब से प्रति वर्ष 21 फरवरी को अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाया जाता है।

ये भी पढ़ें http://www.nairahein.com/story-behind-starting-of-nobel-prize/

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस क्यों मनाया जाता है ?

21,फरवरी को अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस बांग्लादेश में भाषा आंदोलन में शहीद हुए लोगों की स्मृति में मनाया जाता है। 9 नवंबर 1998 को कनाडा में रह रहे रफीकुल इस्लाम नें संयुक्त राष्ट्र संघ के तत्कालीन महासचिव कोफी अन्नान को पत्र लिखकर विश्व की भाषाओं को बचाने का अनुरोध किया। इसके लिए अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाने का भी अनुरोध किया जिसके लिए 21 फरवरी के दिन के बारे में सलाह दी।

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के पीछे कहानी

जब 1947 में पाकिस्तान स्वतंत्र रूप से भारत से विभाजित हुआ तब बांग्लादेश भी इस्ट पाकिस्तान के रुप में पाकिस्तान के साथ गया। पाकिस्तान नें उर्दू को अपनी राष्ट्रभाषा बनाया जिसके विरोध में बांग्लादेश में प्रदर्शन होने लगे। बांग्लादेश के लोग बांग्ला भाषा को भी उचित सम्मान दिलाना चाहते थे। 21 फरवरी 1952 को ढाका विश्वविद्यालय के छात्रों नें बहुत बड़ा आंदोलन किया। इस आंदोलन को दबाने के लिए पाकिस्तान सरकार नें दमनकारी नीति अपनाई तथा प्रदर्शनकारियों पर गोलियां चलाई जिसमें कई लोग वीर गति को प्राप्त (शहीद) हुए। आखिरकार 1956 में  पाकिस्तान सरकार को बांग्ला को भी आधिकारिक भाषा का दर्जा देना पड़ा। उन्हीं मातृभाषा को सम्मान दिलाने के लिए जान देने वाले लोगों की याद में अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाया जाता है।

अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस का थीम

प्रति वर्ष अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस एक थीम के साथ मनाया जाता है।

2020 – Indigenous Language matter for development, peace building and reconciliation.
2019 – International Year of Indigenous Language

मातृभाषा दिवस के अन्य नाम

मातृभाषा दिवस को कई अन्य नामों से भी जाना जाता है।
1. टंग डे (Tongue Day)
2. मदर लैंग्वेज डे (Mother Language Day)
3. मदर टंग डे (Mother Tongue Day)
4. लैंग्वेज मूवमेंट डे (Language Movement Day)
5. शहीद दिबोस (Shahid Dibos)

ये भी पढ़ें http://www.nairahein.com/interesting-story-behind-our-republic-day/

भारतीय भाषाएं

किसी भी देश में दो तरह की भाषाएं हो सकती हैं।
एक आधिकारिक भाषा और मातृभाषा। भारत में 22 आधिकारिक भाषाएं हैं जिनको भारतीय संविधान के आठवीं अनुसूची में रखा गया है। इसके अलावा हजारों और भाषाएं बोली जाती हैं।

UNESCO

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के बारे में जानने के बाद , इसको मनाए वाली संस्था के बारे में भी जानना आवश्यक है। इसको मानाने वाली संस्था का नाम UNESCO है।

UNESCO – United Nations Educational, Scientific and Cultural Organisation
संयुक्त राष्ट्र संघ की अनुषांगिक संस्था है जिसका मकसद विश्व में शिक्षा, विज्ञान और संस्कृति के क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कार्य करना है।
स्थापना  – 4 नवंबर 1946
मुख्यालय – पेरिस
डायरेक्टर जनरल – Audrey Azoulay

नई राहें
Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *