Non Indian Who got Bharat Ratna

Posted on

Non Indian Who got Bharat Ratna

भारत रत्न (Bharat Ratna), भारत गणराज्य का सबसे बड़ा नागरिक पुरस्कार है जो किसी भी क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए प्रदान किया जाता है। अब तक कुल 48 लोगों को भारत रत्न से सम्मानित किया जा चूका है जिसमे 2 गैर भारतीय हैं। जिनके नाम हैं।

  1. खान अब्दुल गफ्फार खान (1987)
  2. नेल्सन मंडेला (1992)

खान अब्दुल गफ्फार खान

खान अब्दुल गफ्फार खान पाकिस्तान (जो पहले भारत ही था ) के स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्हे उनके महात्मा गाँधी के सिद्धांतो के आधार पर भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में अहिंसक आंदोलन के लिए सीमांत गाँधी भी कहा जाता है।

इनको फख्र ए अफगान , बादशाह खान तथा बच्चा खान के नाम से भी जाना जाता है।

ये पहले गैर भारतीय हैं जिन्हे 1987 में भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।
इनका जन्म 6 फरवरी 1890 को तथा मृत्यु 20 जनवरी 1988 को हुई थी।1929 में  इन्होने भारत के स्वतंत्रता आंदोलन में खुदाई खिदमतगार (Servants of God) अभियान चलाया जिसने ब्रिटिश राज की कमर तोड़ने में बड़ी भूमिका निभाई।
ये भारत विभाजन के बहुत बड़े विरोधी थे।
अमेरिका में प्रकाशित चिल्ड्रेन्स बुक (Childrens Book) में इन्हे विश्व के 26 इंसान जिन्होंने दुनिया में बदलाव लाया है, में जगह मिली।
दिल्ली में खान मार्किट और दिल्ली में ही करोल बाग में स्थित गफ्फार मार्किट का नाम इनके ही सम्मान में दिया गया है। तथा मुंबई में इनके नाम से खान अब्दुल गफ्फार खान रोड है। 

नेल्सन मंडेला 

नेल्सन मंडेला दक्षिण अफ्रीका के पहले काले तथा पूरी तरह से लोकतान्त्रिक प्रक्रिया से निर्वाचित राष्ट्रपति थे। ये दक्षिण अफ्रीका के राजनैतिक नेता तथा मानवतावादी नेता थे जो 1994 से 1999 तक राष्ट्रपति रहे। इनका जन्म 18 जुलाई 1918 को तथा मृत्यु 5 दिसंबर 2013 को हुई। इनके जीवन पर महात्मा गाँधी के विचारो का बहुत प्रभाव था। इन्हे दक्षिण अफ्रीका में प्यार से मदीबा या राष्ट्रपिता भी कहा जाता है।
नेल्सन मंडेला 1991 से 1997 तक अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। दक्षिण अफ्रीका में भेदभाव  पूर्ण ब्रिटिश शाशन के खिलाफ आंदोलन के लिए इन्हे कई बार गिरफ्तार किया गया तथा अपने जीवन के 27 साल इन्होने कैद में गुजारे।

अंतररष्ट्रीय स्तर पर भूमिका

गुट निरपेक्ष आंदोलन में (1998-1999) (Non Align Movement) ये सेक्रेटरी जनरल की भूमिका भी निभा चुके हैं।
 Pan Am Flight 103 bombing Trial में ये मध्यस्थ की भूमिका भी निभा चुके हैं। 1994 से 1999 तक राष्ट्रपति रहने के बाद ये दूसरी बार राष्ट्रपति बनने से खुद ही इंकार कर दिए।
नेल्सन मंडेला चैरिटेबल ट्रस्ट के माध्यम से गरीबी उन्मूलन और एच आई वी एड्स उन्मूलन के लिए काम किया है तथा आज भी ये संस्था करती है।

नेल्सन मॉडेला को मिले सम्मान

नेल्सन मंडेला को कुल 250 सम्मान मिल चुके हैं जिनमे से कुछ प्रमुख हैं।

  1. नोबेल पुरस्कार (शांति के लिए ) 1993
  2. US Presidential Medal of Freedom
  3. Soviet Union Lenin Peace prize
  4. Libyan Al Gadaffi International Prize fro Human Rights
  5. 1990 में भारत रत्न
  6. 1992 में निशन ऐ पाकिस्तान
  7. 1992 टर्की का अतातुर्क शांति पुरस्कार जिसको की इन्होने टर्की द्वारा मानवाधिकार उल्लंघन किये जाने को लेकर, अस्वीकार कर दिया था पर बाद में 1999 में इसे स्वीकार कर लिया।  इन्हे Order of Isabella the Catholic तथा order of Canada भी नियुक्त किया गया। ये सबसे कम उम्र के जीवित व्यक्ति थे  जिन्हे Honorary Canadian Citizen बनाया गया।

इनकी जीवनियाँ

इनकी पहली जीवनी Merry Benson द्वारा लिखी गयी थी।
बाद में दो और जीवनियाँ प्रकाशित हुई जिसमे से एक  Fatima Meer द्वारा लिखी गयी Higher Than Hope तथा दूसरी Anthony Sampson द्वारा लिखी हुई जो 1999 में प्रकाशित हुई।  

नोट
मदर टेरेसा को भी भारत रत्न तथा नोबेल शांति पुरस्कार मिल चूका है पर ये अल्बानिया मूल की भारतीय नागरिक थी। इनकी गिनती गैर भारतीयों में करना उचित नहीं रहेगा।

ये भी पढ़ें http://www.nairahein.com/women-awarded-bharat-ratna/

नई राहें
Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *