किताबें पढ़ने के 6 चमत्कारिक फायदे

एक बार दुनिया के सबसे धनि व्यक्ति Bill Gates (Founder of Microsoft)  से पूछा गया की अगर आपको कोई एक सुपर पावर मिले तो आप क्या लेना चाहेंगे ? बिल गेट्स का जवाब था की Power to read Super Fast “मतलब किताबे बहुत जल्दी पढ़ने की शक्ति ताकि ज्यादा से ज्यादा किताबें पढ़ सके।

दुनिया में जितने भी सफल लोग हैं उन सबमे एक बात कॉमन है।  वो है पढ़ने की आदत। चाहे वो Bill Gates हो, Warren Buffett हो, Elon Musk हो, Facebook Founder Mark Zukerberg हो, स्वामी विवेकानंद या महात्मा गाँधी, सभी के जीवन में अध्ययन का बहुत बड़ा महत्व रहा है।

जैसा की हमारे देश में एक कहावत है की पढाई बेकार नहीं जाती। बिलकुल दोस्तों पढाई बेकार नहीं जाती। चाहे आप अपने  कोर्स मटेरियल को पढ़ा रहे हैं या व्यक्तित्व के विकास की पुस्तके।  
आप आप सोच रहे होंगे की बिल गेट्स को किताबें पढ़ने की क्या आवश्यकता है ? उनके पास तो अथाह पैसे हैं, वो चाहें तो दुनिया की किसी भी लक्ज़री का एन्जॉय कर सकते हैं। पर आप ये नहीं समझ पा रहे हो की बिल गेट्स के पास ये जो अथाह धन है इसमें उनकी पढ़ने की आदत का सबसे बड़ा योगदान है। उन्हें इन्ही किताबों से शक्ति मिलती है, ज्ञान मिलता है की वो सफलता की दिशा में कदम बढ़ाते रहें।
 

किताबें पढ़ने के बहुत अधिकफायदे हैं पर उनमे से 6 जबरदस्त फायदें जिनको मैनें भी महसूस किया है वो आपके सामने हैं क्यूंकि मैं सिर्फ अपने अनुभवों की साझा करना चाहता हूँ। अगर आप भी अपने अनुभव साझा करना चाहें तो स्वागत है। ब्लॉग पर कमेंट कर सकते हैं। और आपकी रचना प्रकाशित भी हो सकती है।

1.  दूसरों की गलतियों और अनुभवों से सीखना 2.  सकारात्मक ऊर्जा का संचार 3.  अच्छे लोगों का साथ 4.  मानसिक शांति और तनाव मुक्ति 5.  एकाग्रता की वृद्धि 6.  सोचने समझने की क्षमता का विकास

Processed with VSCO with hb2 preset

दूसरों की गलतियों और अनुभवों से सीखना (Learn from other’s Mistakes and Experiences)

एक कहावत है की इंसान अपनी गलतियों से सीखता है पर क्या आपको नहीं लगता की अगर हर कोई सिर्फ अपनी हीं गलतियों और अनुभवों से सीखे तो उसकी पूरी उम्र निकल जाएगी और वो सफल नहीं हो पायेगा?

तो क्या किया जाये?

इसका सीधा उत्तर है की इंसान दूसरों की गलतियों और अनुभवों से भी सीखे? पर क्या ये भी कठिन नहीं है? आखिर इंसान किसकी गलतियों और अनुभवों से सीखे? जो सफल लोग हैं? तो उसको वो सफल लोग मिलेंगे कहाँ? हमारे संपर्क में कितने सफल लोग हैं जिनकी गलतियों से और अनुभवों से हम सीख सकते हैं?
नहीं हैं?

कोई बात नहीं। हमारे पास उनकी गलतियों और अनुभवों का निचोड़ है। उनकी लिखी किताबें जिसमे उनलोगो ने अपने जीवन की हर गलती, अच्छा अनुभव, बुरा अनुभव, सफलता, असफलता, उनलोगों ने जिन चीजों को सीखने के लिए बड़ी कीमत चुकाई हैं वो सारी बातें अपने द्वारा लिखी बुक्स में रख दी हैं।  

अगर अपने Robert T Kiyosaki द्वारा लिखी Book Rich Dad Poor Dad पढ़ा हो तो उसमे लेखक ने जो भी बातें हमें सिखाया है उसे खुद से सिखने में सालों लग जायेंगे और फिर भी जरुरी नहीं है की हम सीख ही जाएँ। 

अगर अपने Dale Carnegie की लिखी किताब “How to win friends and Influence people “पढ़ी हो तो आपको पता होगा की जो बातें आप उस किताब से दो दिनों में सीख सकते हैं वो कई लोग पूरी ज़िन्दगी नहीं सीख पाते। लोगो को दोस्त कैसे बनाना है और उन्हें प्रभावित कैसे करना है ये बातें उनके लिए बहुत सरल है जिनको इसका तकनीक पता है। पर क्या वो तकनीक सीखना आसान है? शायद नहीं जब तक कि आप उनलोगो के अनुभवों से नहीं सीखते जो इस कला में महारत हासिल किये हों। इसलिए किताबें पढ़ना शुरू करें।

अभी Rich Dad Poor Dad और How to win friends and influence People अमेज़ॉन से मंगा कर पढ़ें

 

बिल गेट्स (Bill Gates) के बुक पढ़ने के तीन तरीके

1. नोट्स बनाना (Notes Making)

2. बुक पूरी पढ़ें, अधूरा न छोड़ें (Read Book Completely)

3. रोज कम से कम एक घंटे पढ़ें। (Read at least one hour a day)

Some Quotes about Reading

  • A Reader lives thousand lives before he dies, The man who doesn’t read lives only one. George R R Martin
  • एक पाठक मृत्यु से पहले हजारों जिन्दगियाँ जीता है, पर बुक नहीं पढ़ने वाला केवल एक जिंदगी जीता है। George R R Martin (जॉर्ज आर आर मार्टिन)
  • A room without book is a body without soul. Marcus Tullius Ciero
  • बिना किताब का घर बिना आत्मा के शरीर के बराबर है।
  • Marcus Tullius Ciero (मार्कस टूलियस शियेरो)

सकारात्मक ऊर्जा का संचार (Flow of Positive Energy)

किताबें पढ़ने की आदत बना लेने से आपकी आतंरिक शक्ति मजबूत होती हैं। आपके आत्मविश्वाश में वृद्धि होती है। आपके मन से नकारात्मक विचार बहार निकलते हैं और सकारात्मक विचार भरता है। हमारा मष्तिष्क एक ऐसी जगह है जो खाली नहीं रह सकता। इसमें कुछ न कुछ भरना चाहिए। अब ये उस मस्तिष्क के मालिक पर यानि की आप पर निर्भर करता है की वो उसमे क्या भरना चाहता है ? कमजोरी या ताकत, नकारात्मक विचार या सकारात्मक विचार, मैं कर सकता हूँ का विचार या ये मुझसे नहीं होगा का विचार? अगर आप अच्छे लोगों के साथ रहें, अच्छे काम करें, अच्छी किताबें पढ़े तो मस्तिष्क में सकारत्मक ऊर्जा का संचार होगा और सकारत्मक शक्ति से भर जायेगा, फिर कोई भी कठिन से कठिन कार्य आपको कठिन नहीं लगेगा पर अगर आप बुरे लोगो की सांगत में रहते हैं, बुरे कार्य करते हैं, किताबें नहीं पढ़ते हैं तो आपके मस्तिष्क में नकारात्मक ऊर्जा भरी रहेगी जो आपके जीवन में नकारात्मक प्रभाव डालेंगी। 

अच्छे लोगों का साथ

हर कोई अपने साथ अच्छे लोगो को रखना चाहता है जो सकारात्मक सोच रखता हो, जिसको अपनी शक्ति पर विश्वास हो। जाहिर है आप भी सफल लोगों के बीच में रहना चाहते होंगे। क्या  कोई भी सफल इंसान आपको अपने साथ रखेगा जब तक की आप उसके या किसी के जीवन में वैल्यू ऐड करने की क्षमता नहीं रखते हो? आपको सफल होना है तो सफल लोगों की आदतें होनी चाहिए आपके अंदर। और अगर सफल लोगो की आदतें आप रखते हैं जैसे रोज किताबें पढ़ना तो आपको सफल लोगो का साथ मिलेगा और आप अपने जीवन में सफलता की नीत नई उचाईयों को छुएंगे। 

मानसिक शांति और तनाव मुक्त जीवन (Mental Piece and Stress Free life)

आप सोचो आपको क्या अच्छा लगता है? महापुरुषों की जीवनियां पढ़ना, मनोरंजन या कोई ऐसी बुक जिसको देख कर लगता है की आपको कुछ सीखने को मिलेगा? जो भी आपको पसंद हो आप पढ़ना शुरू करें। पढ़ते समय आप अपनी सारी थकान, तनाव भूल जायेंगे, एक अलग तरह की मानसिक शांति मिलेगी आपको। एक ऐसी शांति जो आपको कहीं नहीं मिलेगी। तो मानसिक शांति और तनाव मुक्ति के लिए पढ़ना शुरू करें।

एकाग्रता की वृद्धि (Focus and Concentration)

आप सोचो जब ऑफिस में काम करते हो तो एक साथ कितने काम करने पड़ते हैं? कंप्यूटर पर काम करना, फाइल्स संभालना, साथ में इमेल्स भी चेक कर लिया, थोड़ी चैटिंग भी कर ली और भी बहुत सारे काम। आपने कभी ध्यान दिया हो या नहीं इस से बहुत ज्यादा चिढ और तनाव महसूस होता है और एकाग्रता की शक्ति का ह्रास होता है। पर जब आप हाथ में किताब लेकर पढ़ने बैठते हैं तो आप किसी और कार्य के बारे में नहीं सोचते हैं। पूरी तरह से एकाग्र होकर उस किताब को पढ़ते हैं जो की आपकी आदत में शुमार होता है। इस से आपकी एकाग्रता की शक्ति बढ़ती है।

सोचने समझने की क्षमता का विकास

भगवान ने इंसानों को सोचने समझने की शक्ति दी है जो की हमें भगवान के द्वारा बनाये गए हर जीव से अलग करता है। पर हर इंसान सोचने समझने की शक्ति असीमित होती है पर हमारा दिमाग उस स्तर तक सोच नहीं पाता जितनी उसकी क्षमता है। कहते हैं की एक इंसान अपने दिमाग की क्षमता का सिर्फ 2 से 3 प्रतिशत का ही उपयोग कर पाता है बाकि क्षमता बेकार चली जाती है। ऐसा क्यों होता है ? क्योंकि हमारे दिमाग में नकारात्मक विचार भरे होते हैं। क्षमता को पहचान ही नहीं पाते। आपके स्वस्थ शरीर के लिए अच्छी खुराक की जिस तरह से आवश्यकता होती है उसी तरह आपके स्वस्थ मस्तिष्क के लिए भी अच्छी खुराक की आवश्यकता है। और उन खुराकों में से एक है अच्छी अच्छी किताबें पढ़ना।किताबें पढ़ने की आदत हमें हमारे क्षमता से परिचय कराती हैं और हमारे सोचने समझने की शक्ति बढ़ जाती है।

 

अगर आपको भी किताबें पढ़ने की आदत है और आप इसमें अपना अनुभव जोड़ना चाहते हैं या कुछ और भी लिखने का शौक रखते हैं तो Mail Us at ” [email protected] “साथ में अपना परिचय एक फोटो के साथ भी भेजें। आपकी रचना आपके नाम और फोटो के साथ प्रकाशित की जाएगी।

 

Leave a Comment