Interesting Story behind our Republic Day

क्या आपको पता है की हम 26 जनवरी को ही अपना गणतंत्र दिवस क्यों मनाते हैं ?

हम सबको पता है की हम 15 अगस्त 1947 को बहुत आंदोलनों और बलिदानो के बाद अंग्रेजी शाशन से स्वतंत्र हुए थे इसलिए प्रति वर्ष 15 अगस्त को हम अपना स्वतंत्रता दिवस मनाते है। हमें ये भी पता है हम प्रति वर्ष 26 जनवरी को अपना गणतंत्र दिवस मनाते हैं।

हम २६ जनवरी को ही अपना गणतंत्र दिवस क्यों मनाते हैं ? क्योंकि हमने अपने संविधान को 26 जनवरी 1950 को देश में लागु करके देश को गणतंत्र बनाया था।

पर  हमने अपने  संविधान को लागु करने  की तिथि  को 26 जनवरी को ही क्यों चुना ? जबकि  हमारा संविधान 26 नवंबर  1949 को ही बनकर तैयार हो  गया  था और हमारी संविधान सभा  ने  उसे  स्वीकार  भी  उसी  दिन कर  लिया  था।  फिर  हमने उसे  लागु करने  के लिए 26 जनवरी तक प्रतीक्षा क्यों  की ? इसके पीछे एक बहुत  ही  रोचक  कहानी है।

हमारे  गणतंत्र दिवस के पीछे  की कहानी

19 जनवरी 1929 को भारतीय  राष्ट्रीय  कांग्रेस  ने  अपने  लाहौर अधिवेशन  में एक घोषणा   पत्र जारी  किया  जिसमे पूर्ण  स्वराज अथवा Declaration of the Independence of India की घोषणा  की गयी।  उस दिन कांग्रेस  ने  भारत  के  लिए ब्रिटिश शाशन  से पूर्ण  स्वराज  की घोषणा की।
31 दिसंबर 1929 को जवाहर लाल  नेहरू  ने  लाहौर के  रावी   नदी  के तट पर  तिरंगा लहराया और लोगो से 26 जनवरी को स्वतंत्रता  दिवस मनाने  की अपील की। उस दिन  पुरे  देश  में तिरंगे  लहराए  गए।  
जब हमारा देश 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्र हुआ  तब  से  हम प्रति वर्ष 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाने  लगे। उसके बाद 26 जनवरी को गणतंत्र  दिवस के रूप  में  मानाने  का  निर्णय  लिया। और  उसी  दिन   हमने अपने  संविधान  को  देश  में  लागु कर देश को गणतंत्र घोषित कर  दिया। तब  से  हम प्रति वर्ष 26 जनवरी को  गणतंत्र  दिवस के रूप  में मनाते आ रहे हैं। 

Did you like this article? Please Share your comment.

यदि आपके पास भी कोई कहानी, आर्टिकल या लेख है और आप उसे प्रकाशित करना चाहते हैं तो हमारे ईमेल ID पर भेजें। हमारी ID है ” [email protected] ” हम उसे आपके नाम फोटो और बायो के साथ प्रकाशित करेंगे।

2 thoughts on “Interesting Story behind our Republic Day”

Leave a Comment